Halaman

    Social Items

रूमेटाइड अर्थराइटिस को गठिया रोग भी कहते हैं। इस बीमारी में रोगी को हड्डियों के जोड़ों में सूजन हो जाती है, और जोड़ों में दर्द होने लगता है। उम्र के बढ़ने, और अस्वस्थ खान-पान के कारण रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) की समस्या हो सकती है। डॉक्टरों के अनुसार,  रूमेटाइड अर्थराइटिस रोग महिलाओं में ज्यादा पाई जाती है, और अधिकांशतः 40 वर्ष की उम्र के बाद ही होती है। क्या आपको पता है कि रूमेटाइड अर्थराइटिस से ग्रस्त होने पर आपकी डाइट कैसी होनी चाहिए। दरअसल किसी भी बीमारी में दवा का पूरा असर तभी होता है जब उचित खान-पान और परहेज किए जाएं। इसलिए यहां रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) के लिए डाइट चार्ट बताया जा रहा है।

गठिया के इस डाइट प्लान को अपनाकर आप ना सिर्फ बीमारी को नियंत्रित कर सकते हैं बल्कि ज्यादा और जल्द राहत पा सकते हैं।

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) रोग में क्या खाएं (Your Diet During Rheumatoid Arthritis Disease)

रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) से ग्रस्त होने पर आपकी डाइट ऐसी होनी चाहिएः-
  • अनाजपुराना चावलगेहूंजौ।
  • दाल: अरहरमूंग, मसूर दाल।
  • फल एवं सब्जियां:  सेबपपीतासहजनटिण्डापरवललौकीतोरईखीराकरेला
  • अन्य:  कड़वा भोज्य पदार्थ जैसे– अजवाइनअदरकसौंफहींगकाला नमकतेलहल्का गर्म पानीकाली मिर्चसेंधा नमकधनियालहसुनजीराघीएरण्ड तेलगुनगुना पानीबिना मलाई का दूधछाछपुनर्नवा। गोमूत्र का सेवन करें।
और पढ़ेंः लहसुन के फायदे और नुकसान

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) बीमारी में क्या ना खाएं (Food to Avoid in Rheumatoid Arthritis Disease)

रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) से ग्रस्त होने पर इनका सेवन नहीं करना चाहिएःः-
  • अनाजनया धानमैदा।
  • दालकाला चनाकाबुली चनाचनामटर।
  • फल एवं सब्जियां:  आलू तथा अन्य कंदमूलसरसों के पतों की सब्जीभिंडीअरबी।
  • अन्यदहीमछलीगुड़दूधअधिक नमककोल्ड ड्रिंक्ससंक्रमित/फफूंदी युक्त भोजनअशुद्ध एवं संक्रमित जलठंडा भोजनठंडा पानीसूखी सब्जीतला हुआ एवं कठिनाई से पाचन वाला भोजन।
  • सख्त मना :- तैलीय मसालेदार भोजनअचारअधिक तेलअधिक नमक कोल्ड ड्रिंक्समैदे वाले पदार्थशराबफास्टफूडसॉफ्टड्रिंक्सजंक फ़ूडडिब्बा बंद खाद्य पदार्थमांसहारमांसहार सूप।
और पढ़ेंः हैंगओवर उतारने के लिए घरेलू उपाय

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) के इलाज के लिए आपका डाइट प्लान (Diet Plan for Rheumatoid Arthritis Treatment)                                                       

रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) से पीड़ित होने पर सुबह उठकर दांतों को साफ करने (बिना कुल्ला कियेसे पहले खाली पेट 1-2 गिलास गुनगुना पानी पिएं। नाश्ते से पहले पतंजलि आवंला व एलोवेरा रस पिएं। इसके साथ ही इन बातों का पालन करें।

समयआहार योजना (शाकाहार)
नाश्ता (8 :30 AM)कप पतंजलि दिव्य पेय दूध रहित + 2-3 आरोग्य बिस्कुट पतंजलि) /पोहा /उपमा (सूजी) /दलिया (नमकीन) / अंकुरित अनाज / 2 पतली रोटी  (पतंजलि मिश्रित अनाज आटा) + 1 कटोरी  सब्जीफलों का सलाद (केलासेबपपीता)
दिन का भोजन   (12:30-01:30 PM)1-2 पतली रोटियां (पतंजलि मिश्रित अनाज आटा)+ 1 कटोरी हरी सब्जिया (उबली हुई) + 1 कटोरी दाल मूंग (पतली) + 1प्लेट सलाद
शाम का नाश्ता (05:30-06:00pm pm)1 पतंजलिकप दिव्य पेय +  2-3 आरोग्य बिस्कुट (पतंजलि)  /सब्जियों का सूप
रात का भोजन (7:00 – 8:00 Pm)1-2 पतली रोटियां (पतंजलि मिश्रित अनाज आटा) + 1 कटोरी रेशेदार हरी सब्जियां + 1 कटोरी दाल मूंग (पतली)  
सोने के पहले (30 mint)10-15 ml एरण्ड का तेल 1कप दूध /गुनगुने पानी से लें
सलाहयदि मरीज को चाय की आदत है तो इसके स्थान पर कप पतंजलि दिव्य पेय दे सकते हैं |

Healthy foods

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) के इलाज लिए आपकी जीवनशैली (Your Lifestyle for Rheumatoid Arthritis Treatment)

गठिया से ग्रस्त होने पर आपकी जीवनशैली ऐसी होनी चाहिएः-
  • बीमार अंगों पर चोट ना लगने दें।
  • शरीर को गतिशील रखें। इसके लिए व्यायाम कर सकते हैं।
  • वजन को कम करें या नियंत्रित रखें।
  • ज्यादा स्ट्रेच वाला काम नहीं करें।
और पढ़ें – अर्थराइटिस में देवदार के फायदे

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) रोग में ध्यान रखने वाली बातें (Points to be Remember in Rheumatoid Arthritis Disease)

गठिया से पीड़ित होने पर इन बातों का ध्यान जरूर रखेंः-
(1) ध्यान एवं योग का अभ्यास रोज करें।
(2) ताजा एवं हल्का गर्म भोजन अवश्य करें।
(3) भोजन धीरे-धीरे शांत स्थान में शांतिपूर्वकसकारात्मक एवं खुश मन से करें।
(4) तीन से चार बार भोजन अवश्य करें।
(5) किसी भी समय का भोजन नहीं त्यागें एवं अत्यधिक भोजन से परहेज करें।
(6) हफ्ते में एक बार उपवास करें।
(7) अमाशय का 1/3rd / 1/4th भाग रिक्त छोड़ें।
(8) भोजन को अच्छी प्रकार से चबाकर एवं धीरेधीरे खायें।
(9) भोजन लेने के बाद 3-5 मिनट टहलें।
(10) सूर्यादय से पहले [5:30 – 6:30 am] जाग जायें।
(11) रोज दो बार दांतों को साफ करें।
(12) रोज जिव्हा करें।
(13) भोजन लेने के बाद थोड़ा टहलें।
(14) रात में सही समय [9-10 PM] पर नींद लें।

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) रोग का उपचार करने के लिए योग और आसन (Yoga and Asana for Rheumatoid Arthritis Treatment)

गठिया से पीड़ित होने पर आप ये योग और आसन कर सकते हैंः-
  • योग प्राणायाम एवं ध्यानभस्त्रिकाकपालभांतिबाह्यप्राणायामअनुलोम विलोमभ्रामरीउदगीथउज्जायीप्रनव जप।
  • आसनसूक्ष्म व्यायामउत्तानपादासपादवृतासन।

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) के लिए डाइट प्लान (Diet Plan for Rheumatoid Arthritis)

रूमेटाइड अर्थराइटिस को गठिया रोग भी कहते हैं। इस बीमारी में रोगी को हड्डियों के जोड़ों में सूजन हो जाती है, और जोड़ों में दर्द होने लगता है। उम्र के बढ़ने, और अस्वस्थ खान-पान के कारण रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) की समस्या हो सकती है। डॉक्टरों के अनुसार,  रूमेटाइड अर्थराइटिस रोग महिलाओं में ज्यादा पाई जाती है, और अधिकांशतः 40 वर्ष की उम्र के बाद ही होती है। क्या आपको पता है कि रूमेटाइड अर्थराइटिस से ग्रस्त होने पर आपकी डाइट कैसी होनी चाहिए। दरअसल किसी भी बीमारी में दवा का पूरा असर तभी होता है जब उचित खान-पान और परहेज किए जाएं। इसलिए यहां रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) के लिए डाइट चार्ट बताया जा रहा है।

गठिया के इस डाइट प्लान को अपनाकर आप ना सिर्फ बीमारी को नियंत्रित कर सकते हैं बल्कि ज्यादा और जल्द राहत पा सकते हैं।

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) रोग में क्या खाएं (Your Diet During Rheumatoid Arthritis Disease)

रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) से ग्रस्त होने पर आपकी डाइट ऐसी होनी चाहिएः-
  • अनाजपुराना चावलगेहूंजौ।
  • दाल: अरहरमूंग, मसूर दाल।
  • फल एवं सब्जियां:  सेबपपीतासहजनटिण्डापरवललौकीतोरईखीराकरेला
  • अन्य:  कड़वा भोज्य पदार्थ जैसे– अजवाइनअदरकसौंफहींगकाला नमकतेलहल्का गर्म पानीकाली मिर्चसेंधा नमकधनियालहसुनजीराघीएरण्ड तेलगुनगुना पानीबिना मलाई का दूधछाछपुनर्नवा। गोमूत्र का सेवन करें।
और पढ़ेंः लहसुन के फायदे और नुकसान

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) बीमारी में क्या ना खाएं (Food to Avoid in Rheumatoid Arthritis Disease)

रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) से ग्रस्त होने पर इनका सेवन नहीं करना चाहिएःः-
  • अनाजनया धानमैदा।
  • दालकाला चनाकाबुली चनाचनामटर।
  • फल एवं सब्जियां:  आलू तथा अन्य कंदमूलसरसों के पतों की सब्जीभिंडीअरबी।
  • अन्यदहीमछलीगुड़दूधअधिक नमककोल्ड ड्रिंक्ससंक्रमित/फफूंदी युक्त भोजनअशुद्ध एवं संक्रमित जलठंडा भोजनठंडा पानीसूखी सब्जीतला हुआ एवं कठिनाई से पाचन वाला भोजन।
  • सख्त मना :- तैलीय मसालेदार भोजनअचारअधिक तेलअधिक नमक कोल्ड ड्रिंक्समैदे वाले पदार्थशराबफास्टफूडसॉफ्टड्रिंक्सजंक फ़ूडडिब्बा बंद खाद्य पदार्थमांसहारमांसहार सूप।
और पढ़ेंः हैंगओवर उतारने के लिए घरेलू उपाय

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) के इलाज के लिए आपका डाइट प्लान (Diet Plan for Rheumatoid Arthritis Treatment)                                                       

रूमेटाइड अर्थराइटिस (गठिया) से पीड़ित होने पर सुबह उठकर दांतों को साफ करने (बिना कुल्ला कियेसे पहले खाली पेट 1-2 गिलास गुनगुना पानी पिएं। नाश्ते से पहले पतंजलि आवंला व एलोवेरा रस पिएं। इसके साथ ही इन बातों का पालन करें।

समयआहार योजना (शाकाहार)
नाश्ता (8 :30 AM)कप पतंजलि दिव्य पेय दूध रहित + 2-3 आरोग्य बिस्कुट पतंजलि) /पोहा /उपमा (सूजी) /दलिया (नमकीन) / अंकुरित अनाज / 2 पतली रोटी  (पतंजलि मिश्रित अनाज आटा) + 1 कटोरी  सब्जीफलों का सलाद (केलासेबपपीता)
दिन का भोजन   (12:30-01:30 PM)1-2 पतली रोटियां (पतंजलि मिश्रित अनाज आटा)+ 1 कटोरी हरी सब्जिया (उबली हुई) + 1 कटोरी दाल मूंग (पतली) + 1प्लेट सलाद
शाम का नाश्ता (05:30-06:00pm pm)1 पतंजलिकप दिव्य पेय +  2-3 आरोग्य बिस्कुट (पतंजलि)  /सब्जियों का सूप
रात का भोजन (7:00 – 8:00 Pm)1-2 पतली रोटियां (पतंजलि मिश्रित अनाज आटा) + 1 कटोरी रेशेदार हरी सब्जियां + 1 कटोरी दाल मूंग (पतली)  
सोने के पहले (30 mint)10-15 ml एरण्ड का तेल 1कप दूध /गुनगुने पानी से लें
सलाहयदि मरीज को चाय की आदत है तो इसके स्थान पर कप पतंजलि दिव्य पेय दे सकते हैं |

Healthy foods

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) के इलाज लिए आपकी जीवनशैली (Your Lifestyle for Rheumatoid Arthritis Treatment)

गठिया से ग्रस्त होने पर आपकी जीवनशैली ऐसी होनी चाहिएः-
  • बीमार अंगों पर चोट ना लगने दें।
  • शरीर को गतिशील रखें। इसके लिए व्यायाम कर सकते हैं।
  • वजन को कम करें या नियंत्रित रखें।
  • ज्यादा स्ट्रेच वाला काम नहीं करें।
और पढ़ें – अर्थराइटिस में देवदार के फायदे

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) रोग में ध्यान रखने वाली बातें (Points to be Remember in Rheumatoid Arthritis Disease)

गठिया से पीड़ित होने पर इन बातों का ध्यान जरूर रखेंः-
(1) ध्यान एवं योग का अभ्यास रोज करें।
(2) ताजा एवं हल्का गर्म भोजन अवश्य करें।
(3) भोजन धीरे-धीरे शांत स्थान में शांतिपूर्वकसकारात्मक एवं खुश मन से करें।
(4) तीन से चार बार भोजन अवश्य करें।
(5) किसी भी समय का भोजन नहीं त्यागें एवं अत्यधिक भोजन से परहेज करें।
(6) हफ्ते में एक बार उपवास करें।
(7) अमाशय का 1/3rd / 1/4th भाग रिक्त छोड़ें।
(8) भोजन को अच्छी प्रकार से चबाकर एवं धीरेधीरे खायें।
(9) भोजन लेने के बाद 3-5 मिनट टहलें।
(10) सूर्यादय से पहले [5:30 – 6:30 am] जाग जायें।
(11) रोज दो बार दांतों को साफ करें।
(12) रोज जिव्हा करें।
(13) भोजन लेने के बाद थोड़ा टहलें।
(14) रात में सही समय [9-10 PM] पर नींद लें।

रूमेटाइड अर्थराइटिस (आमवात) रोग का उपचार करने के लिए योग और आसन (Yoga and Asana for Rheumatoid Arthritis Treatment)

गठिया से पीड़ित होने पर आप ये योग और आसन कर सकते हैंः-
  • योग प्राणायाम एवं ध्यानभस्त्रिकाकपालभांतिबाह्यप्राणायामअनुलोम विलोमभ्रामरीउदगीथउज्जायीप्रनव जप।
  • आसनसूक्ष्म व्यायामउत्तानपादासपादवृतासन।

No comments