Halaman

    Social Items

 गर्भणी की मासानुमासिक परिचर्या 

गर्भावस्था का माहआहार और विहारगर्भावस्था का माहआहार और विहार
पहला महीनाप्रतिदिन नियमित रूप से इच्छानुसार मात्रा में दूध लें |
हल्का व आसानी से पचने वाला अनुकूल आहार लें |
वमन की अवस्था में भोजन बीच-बीच में लें |
चावल की खीर लें
9 महीने तक उपयुक्त /संतुलित आहार लें |
छठा महीनाप्रतिदिन दूध और घी लें |
गाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
मौसमी फल व सब्ज्जियाँ लें |
चावल के 1 भाग के साथ 1/4भाग मूंग की दाल, 6 भाग पानी, स्वादानुसार चुटकी नमक, अदरक व हल्दी मिलाकर खिचड़ी बनाकर लें |
मेवे में बादाम ले सकते हैं |
दूसरा महीनाहल्का व आसानी से पचने वाला अनुकूल आहार लें |
चावल की खीर लें |
सातवां महीनाप्रतिदिन दूध और घी लें |
गाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
मौसमी फल व सब्ज्जियाँ लें |
मेवे में बादाम ले सकते हैं |
तीसरा महीनागाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
प्रतिदिन दूध पिएं |
आहार में घी और शहद शामिल करें |
दाल & लोबिया से बनी खिचड़ी /दलिया लें
चावल की खीर लें |
आठवां महीनाहल्का व आसानी से पचने वाला खाना घी के साथ खाएं
गाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
मौसमी फल व सब्ज्जियाँ लें |
मेवे में बादाम ले सकते हैं |
चौथा महीनाप्रतिदिन नियमित रूप से इच्छानुसार मात्रा में दूध का सेवन करें |
प्रतिदिन प्राकृतिक रूप (दही से निकाला गया) से बनाया गया 5 ग्राम मक्खन लें |
नौवां महीनाहल्का व आसानी से पचने वाला भोजन घी मिलाकर खायें
मेवे में बादाम ले सकते हैं |
पांचवां महीनाप्रतिदिन दूध और घी लें |
गाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
मौसमी फल व सब्ज्जियाँ लें |
निम्न परिस्थितियोँ में डॉक्टर से सम्पर्क  करें |
  1. गर्भावस्था के दौरान रक्तस्राव होने की अवस्था में |  2. बार बार उल्टी होने पर | 3. पेटदर्द होने पर | 4. बुखार ठण्ड के साथ या बिना ठण्ड की अवस्था में|
  2. सिरदर्द, आलस्य, व धुंधला दिखने पर |   6. पैरों, हाथों व चहरे में सूजन होने की अवस्था में|  7. भ्रूण में किसी प्रकार कि हलचल न होने की अवस्था में |
योग & प्राणायाम
पहले के तीन महीनो में (12 सप्ताह तक )- अनुलोम-विलोम, टहलना (यदि कोई अन्य समस्या ना हो तो )
बाद के तीन महीनो में  (13 -18 सप्ताह तक )- अनुलोम-विलोम, वज्रासन, एक व द्विपादासन, उत्तानासन व शवासन
आखिरी के तीन महीनो में (29 -40  सप्ताह तक) – उपरोक्त
नोट- योग & प्राणायाम डॉक्टर से सलाह लेकर ही करें
आचरण हमेशा अच्छा रखें, सकारात्मक सोचें, मधुर संगीत सुनें व मंत्रों का उच्चारण करें |
सख्त मना- जंक फ़ूड, बासी भोजन, गैस बनाने वाले पेय पदार्थ, तेज आवाज में संगीत, व कठिन व्यायाम आदि |

Diet Plan for Pregnancy: गर्भणी के लिए आहार दिनचर्या

 गर्भणी की मासानुमासिक परिचर्या 

गर्भावस्था का माहआहार और विहारगर्भावस्था का माहआहार और विहार
पहला महीनाप्रतिदिन नियमित रूप से इच्छानुसार मात्रा में दूध लें |
हल्का व आसानी से पचने वाला अनुकूल आहार लें |
वमन की अवस्था में भोजन बीच-बीच में लें |
चावल की खीर लें
9 महीने तक उपयुक्त /संतुलित आहार लें |
छठा महीनाप्रतिदिन दूध और घी लें |
गाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
मौसमी फल व सब्ज्जियाँ लें |
चावल के 1 भाग के साथ 1/4भाग मूंग की दाल, 6 भाग पानी, स्वादानुसार चुटकी नमक, अदरक व हल्दी मिलाकर खिचड़ी बनाकर लें |
मेवे में बादाम ले सकते हैं |
दूसरा महीनाहल्का व आसानी से पचने वाला अनुकूल आहार लें |
चावल की खीर लें |
सातवां महीनाप्रतिदिन दूध और घी लें |
गाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
मौसमी फल व सब्ज्जियाँ लें |
मेवे में बादाम ले सकते हैं |
तीसरा महीनागाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
प्रतिदिन दूध पिएं |
आहार में घी और शहद शामिल करें |
दाल & लोबिया से बनी खिचड़ी /दलिया लें
चावल की खीर लें |
आठवां महीनाहल्का व आसानी से पचने वाला खाना घी के साथ खाएं
गाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
मौसमी फल व सब्ज्जियाँ लें |
मेवे में बादाम ले सकते हैं |
चौथा महीनाप्रतिदिन नियमित रूप से इच्छानुसार मात्रा में दूध का सेवन करें |
प्रतिदिन प्राकृतिक रूप (दही से निकाला गया) से बनाया गया 5 ग्राम मक्खन लें |
नौवां महीनाहल्का व आसानी से पचने वाला भोजन घी मिलाकर खायें
मेवे में बादाम ले सकते हैं |
पांचवां महीनाप्रतिदिन दूध और घी लें |
गाजर, चुकंदर, हरी पत्तेदार सब्जियां और फलों में सेब, अंगूर, आदि को प्रतिदिन भोजन में शामिल करें |
मौसमी फल व सब्ज्जियाँ लें |
निम्न परिस्थितियोँ में डॉक्टर से सम्पर्क  करें |
  1. गर्भावस्था के दौरान रक्तस्राव होने की अवस्था में |  2. बार बार उल्टी होने पर | 3. पेटदर्द होने पर | 4. बुखार ठण्ड के साथ या बिना ठण्ड की अवस्था में|
  2. सिरदर्द, आलस्य, व धुंधला दिखने पर |   6. पैरों, हाथों व चहरे में सूजन होने की अवस्था में|  7. भ्रूण में किसी प्रकार कि हलचल न होने की अवस्था में |
योग & प्राणायाम
पहले के तीन महीनो में (12 सप्ताह तक )- अनुलोम-विलोम, टहलना (यदि कोई अन्य समस्या ना हो तो )
बाद के तीन महीनो में  (13 -18 सप्ताह तक )- अनुलोम-विलोम, वज्रासन, एक व द्विपादासन, उत्तानासन व शवासन
आखिरी के तीन महीनो में (29 -40  सप्ताह तक) – उपरोक्त
नोट- योग & प्राणायाम डॉक्टर से सलाह लेकर ही करें
आचरण हमेशा अच्छा रखें, सकारात्मक सोचें, मधुर संगीत सुनें व मंत्रों का उच्चारण करें |
सख्त मना- जंक फ़ूड, बासी भोजन, गैस बनाने वाले पेय पदार्थ, तेज आवाज में संगीत, व कठिन व्यायाम आदि |

No comments