Halaman

    Social Items

किडनी /गॉलब्लेडर स्टॉन के लिए आहार दिनचर्या
  1. प्रातः सुबह उठकर दन्तधावन (बिना कुल्ला कियेसे पूर्व खाली पेट 1-2 गिलास गुनगुना पानी एवं नाश्ते से पूर्व आवंला व एलोवेरा स्वरस पियें
संतुलित  योजना
समयआहार योजना शाकाहार )
नाश्ता (8:30am)1कप पतंजलि दिव्य पेय /पोहा उपमा (सूज़ी ) / पतंजलि आरोग्य दलिया (नमकीन) /इडली /1 प्लेट फलो का सलाद (अँगूरसेबचेरीनाशपातीकेलातरबूज) /गिलास गन्ने का जूस
दिन का भोजन  
(12:00-1:30 PM)
कटोरी चावल + 2 रोटी + 1 कप दाल (पतंजलि मिश्रित अनाज आटा + 1½ कप हरे पत्तेदार सब्जी) + आधा कप दही + 1 कटोरी सलाद
शाम का जलपान (3:30pm)1 कप  पतंजलि दिव्य पेय + 2-3  पतंजलि आरोग्य बिस्कुट /सब्जियों का सूप   
रात्रि को भोजन(8;00 PM)1-2 रोटी (मिश्रित अनाजपतंजलि) + कप दाल 1½ कप सब्जी (हरे पत्तेदार) + पनीर पीस   
सोने से पहले  (10:00PM)कप दूध पतंजलि हरिद्राखण्ड पाउडर |
पथ्य आहार (जो लेना है)
अनाजगेहूँजौबाजराशाली चावल |
दाल: मूँगचना
फल एवं सब्जियाँ– अँगूरसेबचेरीनाशपातीकेलातरबूजआड़ूखजूरनींबूखीराप्याजमौसमी हरी सब्जियां |
और पढ़ें: नाशपाती के फायदे
अन्य शुण्ठीअदरकअजवायनकाली मिर्चसेंधा नमकहींगलसहुनधनियाबिना मलाई का दूधएरण्ड तैलगुनगुना पानीसौंफदहीगाजर का जूससरसोनारियल पानी |
जीवन शैली 2-3 लीटर पानी रोज पिये |
योग प्राणायाम एवं ध्यानभस्त्रिकाअनुलोम विलोमभ्रामरीउदगीथउज्जायीप्रनव जप
आसनशवासनभुजंगासनमकरासनमर्कटासनउत्तानपादासपश्चिमोत्तानासन
अपथ्य (जो नहीं लेना है)
अनाजनया चावलमैदा
दाल राजमासोयाबीन |
सब्जियाँ एवं फलपालकमटरसोयागाजरहरी प्याजहरी मिर्चअजवाइनशकरकन्दचकुंदरसभी प्रकार की बीज वाली सब्जी व फलअखरोटजामुन |
और पढ़ें: शकरकन्द के फायदे व नुकसान
अन्यमछलीगुड़अत्यधिक नमकठंडा व संदूषित  भोजनशीत पदार्थशीतल जलरुक्ष भोजन
सख्ती से पालन करें – तैलीय मसालेदार भोजनमांसाहारमांसाहार सूपआचारघीतेलअत्यधिक नमककोल्ड ड्रिंकबेकरी पदार्थमदिराजंक फ़ूडसॉफ्टड्रिंकडिब्बा बंद खानानमकचॉकलेटटॉफीमछलीकॉफीचायकोलड्रिंक |
जीवन शैली अपथ्यअभ्रमणशील (आलस्य युक्त जीवन शैली या अधिक बैठे रहना )
नोटबीज वाले फल एवं सब्जियाँ ना लें |
योग प्राणायाम एवं ध्यान– कपालभातिबाह्यप्राणयामउज्जायी (वैद्यानिर्देशानुसार)
आसन– वैद्यानिर्देशानुसार
सलाहयदि मरीज को चाय की आदत है तो इसके स्थान पर कप पतंजलि दिव्य पेय ले सकते हैं |
सलाह  (किडनी स्टॉन के लिए)
पानीजूसआदि अधिक मात्रा मे पियेबारबार पिये 3-4 पत्थरचट्टा के पत्ते पानी के साथ खाली पेट 3-4 बार चबाये |
सलाह (गॉलब्लेडर स्टॉन के लिये )
पानीजूस आदि अधिक मात्रा में ले1 गिलास सेब के जूस में एक चौथाई चम्मच सेंधा नमक मिलाकर दिन में 1-2 बार पिये |  1-2 चम्मच जैतून के तेल में 4 -5 बुँदे नीम्बू का रस मिलाकर दिन में 2 -3 बार पिये ताजा गाजर जूस ककड़ी चकुंदर 100 ml दिन में दो बार पीये |
नियमित  रूप से अपनाये :-
(1) ध्यान एवं योग का अभ्यास प्रतिदिन करे (2) ताजा एवं हल्का गर्म भोजन अवश्य करे (3) भोजन धीरे धीरे शांत स्थान मे शांतिपूर्वकसकारात्मक एवं खुश मन से करे (4) तीन से चार बार भोजन अवश्य करे (5) किसी भी समय का भोजन नहीं त्यागे एवं अत्यधिक भोजन से परहेज करे (6) हफ्ते मे एक बार उपवास करे (7) अमाशय का 1/3rd / 1/4th भाग रिक्त छोड़े (8) भोजन को अच्छी प्रकार से चबाकर एवं धीरेधीरे खाये (9) भोजन लेने के पश्चात 3-5 मिनट टहले (10) सूर्यादय से पूर्व साथ जाग जाये [5:30 – 6:30 am] (11) प्रतिदिन दो बार दन्त धावन करे (12) प्रतिदिन जिव्हा निर्लेखन करे (13) भोजन लेने के पश्चात थोड़ा टहले एवं रात्रि मे सही समय पर नींद लें [9- 10 PM]

Diet Plan for Kidney Stone: किडनी /गॉलब्लेडर स्टॉन के लिए आहार दिनचर्या

किडनी /गॉलब्लेडर स्टॉन के लिए आहार दिनचर्या
  1. प्रातः सुबह उठकर दन्तधावन (बिना कुल्ला कियेसे पूर्व खाली पेट 1-2 गिलास गुनगुना पानी एवं नाश्ते से पूर्व आवंला व एलोवेरा स्वरस पियें
संतुलित  योजना
समयआहार योजना शाकाहार )
नाश्ता (8:30am)1कप पतंजलि दिव्य पेय /पोहा उपमा (सूज़ी ) / पतंजलि आरोग्य दलिया (नमकीन) /इडली /1 प्लेट फलो का सलाद (अँगूरसेबचेरीनाशपातीकेलातरबूज) /गिलास गन्ने का जूस
दिन का भोजन  
(12:00-1:30 PM)
कटोरी चावल + 2 रोटी + 1 कप दाल (पतंजलि मिश्रित अनाज आटा + 1½ कप हरे पत्तेदार सब्जी) + आधा कप दही + 1 कटोरी सलाद
शाम का जलपान (3:30pm)1 कप  पतंजलि दिव्य पेय + 2-3  पतंजलि आरोग्य बिस्कुट /सब्जियों का सूप   
रात्रि को भोजन(8;00 PM)1-2 रोटी (मिश्रित अनाजपतंजलि) + कप दाल 1½ कप सब्जी (हरे पत्तेदार) + पनीर पीस   
सोने से पहले  (10:00PM)कप दूध पतंजलि हरिद्राखण्ड पाउडर |
पथ्य आहार (जो लेना है)
अनाजगेहूँजौबाजराशाली चावल |
दाल: मूँगचना
फल एवं सब्जियाँ– अँगूरसेबचेरीनाशपातीकेलातरबूजआड़ूखजूरनींबूखीराप्याजमौसमी हरी सब्जियां |
और पढ़ें: नाशपाती के फायदे
अन्य शुण्ठीअदरकअजवायनकाली मिर्चसेंधा नमकहींगलसहुनधनियाबिना मलाई का दूधएरण्ड तैलगुनगुना पानीसौंफदहीगाजर का जूससरसोनारियल पानी |
जीवन शैली 2-3 लीटर पानी रोज पिये |
योग प्राणायाम एवं ध्यानभस्त्रिकाअनुलोम विलोमभ्रामरीउदगीथउज्जायीप्रनव जप
आसनशवासनभुजंगासनमकरासनमर्कटासनउत्तानपादासपश्चिमोत्तानासन
अपथ्य (जो नहीं लेना है)
अनाजनया चावलमैदा
दाल राजमासोयाबीन |
सब्जियाँ एवं फलपालकमटरसोयागाजरहरी प्याजहरी मिर्चअजवाइनशकरकन्दचकुंदरसभी प्रकार की बीज वाली सब्जी व फलअखरोटजामुन |
और पढ़ें: शकरकन्द के फायदे व नुकसान
अन्यमछलीगुड़अत्यधिक नमकठंडा व संदूषित  भोजनशीत पदार्थशीतल जलरुक्ष भोजन
सख्ती से पालन करें – तैलीय मसालेदार भोजनमांसाहारमांसाहार सूपआचारघीतेलअत्यधिक नमककोल्ड ड्रिंकबेकरी पदार्थमदिराजंक फ़ूडसॉफ्टड्रिंकडिब्बा बंद खानानमकचॉकलेटटॉफीमछलीकॉफीचायकोलड्रिंक |
जीवन शैली अपथ्यअभ्रमणशील (आलस्य युक्त जीवन शैली या अधिक बैठे रहना )
नोटबीज वाले फल एवं सब्जियाँ ना लें |
योग प्राणायाम एवं ध्यान– कपालभातिबाह्यप्राणयामउज्जायी (वैद्यानिर्देशानुसार)
आसन– वैद्यानिर्देशानुसार
सलाहयदि मरीज को चाय की आदत है तो इसके स्थान पर कप पतंजलि दिव्य पेय ले सकते हैं |
सलाह  (किडनी स्टॉन के लिए)
पानीजूसआदि अधिक मात्रा मे पियेबारबार पिये 3-4 पत्थरचट्टा के पत्ते पानी के साथ खाली पेट 3-4 बार चबाये |
सलाह (गॉलब्लेडर स्टॉन के लिये )
पानीजूस आदि अधिक मात्रा में ले1 गिलास सेब के जूस में एक चौथाई चम्मच सेंधा नमक मिलाकर दिन में 1-2 बार पिये |  1-2 चम्मच जैतून के तेल में 4 -5 बुँदे नीम्बू का रस मिलाकर दिन में 2 -3 बार पिये ताजा गाजर जूस ककड़ी चकुंदर 100 ml दिन में दो बार पीये |
नियमित  रूप से अपनाये :-
(1) ध्यान एवं योग का अभ्यास प्रतिदिन करे (2) ताजा एवं हल्का गर्म भोजन अवश्य करे (3) भोजन धीरे धीरे शांत स्थान मे शांतिपूर्वकसकारात्मक एवं खुश मन से करे (4) तीन से चार बार भोजन अवश्य करे (5) किसी भी समय का भोजन नहीं त्यागे एवं अत्यधिक भोजन से परहेज करे (6) हफ्ते मे एक बार उपवास करे (7) अमाशय का 1/3rd / 1/4th भाग रिक्त छोड़े (8) भोजन को अच्छी प्रकार से चबाकर एवं धीरेधीरे खाये (9) भोजन लेने के पश्चात 3-5 मिनट टहले (10) सूर्यादय से पूर्व साथ जाग जाये [5:30 – 6:30 am] (11) प्रतिदिन दो बार दन्त धावन करे (12) प्रतिदिन जिव्हा निर्लेखन करे (13) भोजन लेने के पश्चात थोड़ा टहले एवं रात्रि मे सही समय पर नींद लें [9- 10 PM]

No comments