Halaman

    Social Items

नींबू जम्बीरी का परिचय (Introduction of Nimbu Jambiri)

नींबू जम्बीरी सुनने पर लगेगा कि यह नींबू है लेकिन नींबू जंबीरी के गुण उससे अलग होते हैं। आयुर्वेद में इस अजीब से नाम के नींबू जंबीरी के फायदे अनगिनत होते हैं। इसके औषधीय फायदे कई बीमारियों के इलाज के लिए प्रयोग में लाया जाता है। चलिये इस नींबू जंबीरी के बारे में आगे विस्तार से जानते हैं-

नींबू जम्बीरी क्या है? (What is Nimbu Jambiri in Hindi?)

नींबू जंबीरी 3-4 मी ऊँचा, बहुत शाखाओं वाला कांटेदार, झाड़ीदार सदाहरित झाड़ी होता है। इसके फल गोलाकार, 7.5-12.5 सेमी व्यास के, चमकीले पीले रंग के और रस से युक्त होते हैं।

अन्य भाषाओं में नींबू जम्बीरी के नाम (Names of Nimbu Jambiri in Different Languages)

नींबू जंबीरी का वानास्पतिक नाम Citrus limon (Linn.) Burm.f. (सिट्रस लिमन) Syn- Citrus medica Linn. var. limonum;  Citrus pseudolimon Tanaka होता है। इसका कुल  Rutaceae (रूटेसी) होता है और इसको अंग्रेजी में Lemon (लैमन) कहते हैं। चलिये अब जानते हैं कि नींबू जंबीरी और किन-किन नामों से जाना जाता है। 
Sanskrit-जम्बीर; 
Hindi-जमीरीनींबू, बड़ानीबू, पहाड़ी नीबू; 
Urdu-निम्बू (Nimbu); 
Kannada-काडलिम्बे (Kadlimbae); 
Gujrati-गोदडिया (Goddiya), लिंबु दोडिगा (Limbu dodiga); 
Telugu-जांभिर निम्ब (Jambhir nimb); 
Tamil-पेरिया येलुमिच्चई (Periya yelumichchai); 
Bengali-जामीरालेबू (Jamiralebu), गोंडालेंबु (Gondalembu); 
Nepali-कागती (Kagti); 
Punjabi-गलगल (Galgal), कीमती (Kimti); 
Marathi-इड लिंबु (Id limbu); 
Malayalam-मातलम (Matlam), गनपतिनरकम् (Ganpatinarkam)।
Arbi-कलम्बक (Qulambak); 
Persian-लीमू कागी (Limoo khagi)।

नींबू जंबीरी का औषधीय गुण (Medicinal Properties of Nimbu Jambiri in Hindi)

नींबू जंबीरी का औषधीय गुण कैसे फायदा पहुँचाता है, इसके बारे में जानने के लिए आगे चलते हैं-
इसका फल विरेचक, कृमिनाशक, पूयरोधी (एंटीसेप्टिक); तृष्णा या प्यास, अजीर्ण या बदहजमी, विसूचिका (dysentery), अतिसार या दस्त, श्वास या सांस, आध्मान (Flatulance), आमवात या गठिया, वातरक्त या गठिया, आमातिसार (Diarrhoea)या , प्रतिश्याय (Coryza), शूल या दर्द, विबन्ध या कब्ज, या छर्दि या उल्टी होता है।
यह अम्ल, मधुर, गर्म, गुरु, तीक्ष्ण, कफवातशामक तथा पित्तवर्धक होता है।
यह दीपन, रुच्य, सुगंधित, पाचन, विबन्ध या कब्ज, शूल या दर्द, कास या खांसी, छर्दि या उल्टी, तृष्णा या प्यास, आमदोष, श्वास या सांस, हृदय की पीड़ा, कृमि होता है।
नींबू जंबीरी के पत्ते तीखे तथा वातकफ से आराम दिलाता है।

नींबू जंबीरी के फायदे और उपयोग (Uses and Benefits of Nimbu Jambiri in Hindi) 

नींबू जंबीरी में पौष्टिकारक गुण होता है, उतना ही औषधी के रूप में कौन-कौन से बीमारियों के लिए फायदेमंद होते है,चलिये इसके बारे में आगे जानते हैं-

कान दर्द से दिलाये आराम नींबू जंबीरी (Nimbu Jambiri Beneficial to Treat Ear pain in Hindi)


किसी कारणवश अगर कान में दर्द हो रहा है और कोई उपचार काम नहीं दे रहा है तो जम्बीर नींबू के रस से सिद्ध तेल को 1-2 बूँद कान में डालने से कान दर्द से आराम मिलता है।

अम्लपित्त या एसिडिटी के इलाज में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Benefit of Nimbu Jambiri in Acidity in Hindi)

एसिडिटी से परेशान रहते हैं? तो नींबू जंबीरी का सेवन इस तरह से करने पर जल्दी आराम मिलता है। पके जम्बीर फल के रस (5-10 मिली) का सेवन करने से अम्लपित्त, आमातिसार या अजीर्ण या अपच में लाभ होता है।

अजीर्ण या बदहजमी के सेवन में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Nimbu Jambiri Beneficial to Treat Acidity in Hindi)

जम्बीर फल के रस में लवण या नमक मिलाकर सेवन करने से अजीर्ण तथा अरुचि के इलाज में लाभ मिलता है।

मसूरिका के इलाज में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Nimboo Jambiri Beneficial to Treat Pox in Hindi)


जम्बीरी नींबू के रस में गुड़ मिलाकर सेवन करने से मसूरिका या चेचक के कष्ट से आराम दिलाने में मदद मिलती है।

दद्रु या रिंगवर्म के कष्ट से निदान दिलाने में लाभकारी नींबू जंबीरी (Benefit of Nimboo Jambiri in Ringworm in Hindi)

अगर बार-बार रिंगवर्म निकल रहा है और इस परेशानी से छुटकारा नहीं मिल रहा है तो जम्बीर फल के रस में नमक मिलाकर लगाने से दद्रु या रिंगवर्म से आराम मिलता है।

शीताद यानि त्वचा संबंधी समस्याओं को दूर करने में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Benefit of Nimboo Jambiri in Skin Diseases in Hindi)

10 मिली जम्बीर फल के रस में 100 मिली पानी मिलाकर गरारा करने से शीताद् आदि त्वचा संबंधी समस्याओं में लाभ होता है।

बुखार के लक्षणों से आराम दिलाने में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Nimboo Jambiri Beneficial to Get Relief from Fever in Hindi)


बुखार के ताप, जलन और दर्द जैसे लक्षणों से आराम पाना चाहते हैं तो नींबू जंबीरी का इस्तेमाल इस तरह से करने से आराम मिलता है-
-इसके शीतल मधुर रस का सेवन करने से बुखार से आराम मिलता है।
-बुखार और अन्य प्रदाहिक दर्दों में इसके रस को शर्बत के साथ पिलाने से लाभ मिलता है।

शरीर के दर्द के कष्ट से दिलाये आराम नींबू जंबीरी (Nimboo Jambiri Beneficial to Treat Body Ache in Hindi)

5-15 मिली फल के रस में 65 मिग्रा यवक्षार तथा शहद मिलाकर सेवन करने से पार्श्वशूल, गृध्रसी या साइटिका, कटिशूल या कमरदर्द तथा नितम्बसंधि की दर्द से आराम मिलती है।

नींबू जंबीरी का उपयोगी भाग (Useful Parts of Nimbu Jambiri)

आयुर्वेद के अनुसार नींबू जंबीरी का औषधीय गुण इसके इन भागों को प्रयोग करने पर सबसे ज्यादा मिलता है-
-फल का रस
-छिलका
-पत्ता और 
-तेल।

नींबू जंबीरी का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए (How to Use Nimbu Jambiri in Hindi)

यदि आप किसी ख़ास बीमारी के घरेलू इलाज के लिए नींबू जंबीरी का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह के अनुसार ही इसका उपयोग करें। 

नींबू जंबीरी कहां पाया या उगाया जाता है (Where is Nimbu Jambiri Found or Grown in Hindi)

 भारत में यह हिमालय पर 1200 मी की ऊंचाई तक तथा उत्तर भारत, कर्नाटक, तमिलनाडू, गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली, आसाम एवं पंजाब में पाया जाता है।


गुणकारी है नींबू जम्बीरी

नींबू जम्बीरी का परिचय (Introduction of Nimbu Jambiri)

नींबू जम्बीरी सुनने पर लगेगा कि यह नींबू है लेकिन नींबू जंबीरी के गुण उससे अलग होते हैं। आयुर्वेद में इस अजीब से नाम के नींबू जंबीरी के फायदे अनगिनत होते हैं। इसके औषधीय फायदे कई बीमारियों के इलाज के लिए प्रयोग में लाया जाता है। चलिये इस नींबू जंबीरी के बारे में आगे विस्तार से जानते हैं-

नींबू जम्बीरी क्या है? (What is Nimbu Jambiri in Hindi?)

नींबू जंबीरी 3-4 मी ऊँचा, बहुत शाखाओं वाला कांटेदार, झाड़ीदार सदाहरित झाड़ी होता है। इसके फल गोलाकार, 7.5-12.5 सेमी व्यास के, चमकीले पीले रंग के और रस से युक्त होते हैं।

अन्य भाषाओं में नींबू जम्बीरी के नाम (Names of Nimbu Jambiri in Different Languages)

नींबू जंबीरी का वानास्पतिक नाम Citrus limon (Linn.) Burm.f. (सिट्रस लिमन) Syn- Citrus medica Linn. var. limonum;  Citrus pseudolimon Tanaka होता है। इसका कुल  Rutaceae (रूटेसी) होता है और इसको अंग्रेजी में Lemon (लैमन) कहते हैं। चलिये अब जानते हैं कि नींबू जंबीरी और किन-किन नामों से जाना जाता है। 
Sanskrit-जम्बीर; 
Hindi-जमीरीनींबू, बड़ानीबू, पहाड़ी नीबू; 
Urdu-निम्बू (Nimbu); 
Kannada-काडलिम्बे (Kadlimbae); 
Gujrati-गोदडिया (Goddiya), लिंबु दोडिगा (Limbu dodiga); 
Telugu-जांभिर निम्ब (Jambhir nimb); 
Tamil-पेरिया येलुमिच्चई (Periya yelumichchai); 
Bengali-जामीरालेबू (Jamiralebu), गोंडालेंबु (Gondalembu); 
Nepali-कागती (Kagti); 
Punjabi-गलगल (Galgal), कीमती (Kimti); 
Marathi-इड लिंबु (Id limbu); 
Malayalam-मातलम (Matlam), गनपतिनरकम् (Ganpatinarkam)।
Arbi-कलम्बक (Qulambak); 
Persian-लीमू कागी (Limoo khagi)।

नींबू जंबीरी का औषधीय गुण (Medicinal Properties of Nimbu Jambiri in Hindi)

नींबू जंबीरी का औषधीय गुण कैसे फायदा पहुँचाता है, इसके बारे में जानने के लिए आगे चलते हैं-
इसका फल विरेचक, कृमिनाशक, पूयरोधी (एंटीसेप्टिक); तृष्णा या प्यास, अजीर्ण या बदहजमी, विसूचिका (dysentery), अतिसार या दस्त, श्वास या सांस, आध्मान (Flatulance), आमवात या गठिया, वातरक्त या गठिया, आमातिसार (Diarrhoea)या , प्रतिश्याय (Coryza), शूल या दर्द, विबन्ध या कब्ज, या छर्दि या उल्टी होता है।
यह अम्ल, मधुर, गर्म, गुरु, तीक्ष्ण, कफवातशामक तथा पित्तवर्धक होता है।
यह दीपन, रुच्य, सुगंधित, पाचन, विबन्ध या कब्ज, शूल या दर्द, कास या खांसी, छर्दि या उल्टी, तृष्णा या प्यास, आमदोष, श्वास या सांस, हृदय की पीड़ा, कृमि होता है।
नींबू जंबीरी के पत्ते तीखे तथा वातकफ से आराम दिलाता है।

नींबू जंबीरी के फायदे और उपयोग (Uses and Benefits of Nimbu Jambiri in Hindi) 

नींबू जंबीरी में पौष्टिकारक गुण होता है, उतना ही औषधी के रूप में कौन-कौन से बीमारियों के लिए फायदेमंद होते है,चलिये इसके बारे में आगे जानते हैं-

कान दर्द से दिलाये आराम नींबू जंबीरी (Nimbu Jambiri Beneficial to Treat Ear pain in Hindi)


किसी कारणवश अगर कान में दर्द हो रहा है और कोई उपचार काम नहीं दे रहा है तो जम्बीर नींबू के रस से सिद्ध तेल को 1-2 बूँद कान में डालने से कान दर्द से आराम मिलता है।

अम्लपित्त या एसिडिटी के इलाज में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Benefit of Nimbu Jambiri in Acidity in Hindi)

एसिडिटी से परेशान रहते हैं? तो नींबू जंबीरी का सेवन इस तरह से करने पर जल्दी आराम मिलता है। पके जम्बीर फल के रस (5-10 मिली) का सेवन करने से अम्लपित्त, आमातिसार या अजीर्ण या अपच में लाभ होता है।

अजीर्ण या बदहजमी के सेवन में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Nimbu Jambiri Beneficial to Treat Acidity in Hindi)

जम्बीर फल के रस में लवण या नमक मिलाकर सेवन करने से अजीर्ण तथा अरुचि के इलाज में लाभ मिलता है।

मसूरिका के इलाज में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Nimboo Jambiri Beneficial to Treat Pox in Hindi)


जम्बीरी नींबू के रस में गुड़ मिलाकर सेवन करने से मसूरिका या चेचक के कष्ट से आराम दिलाने में मदद मिलती है।

दद्रु या रिंगवर्म के कष्ट से निदान दिलाने में लाभकारी नींबू जंबीरी (Benefit of Nimboo Jambiri in Ringworm in Hindi)

अगर बार-बार रिंगवर्म निकल रहा है और इस परेशानी से छुटकारा नहीं मिल रहा है तो जम्बीर फल के रस में नमक मिलाकर लगाने से दद्रु या रिंगवर्म से आराम मिलता है।

शीताद यानि त्वचा संबंधी समस्याओं को दूर करने में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Benefit of Nimboo Jambiri in Skin Diseases in Hindi)

10 मिली जम्बीर फल के रस में 100 मिली पानी मिलाकर गरारा करने से शीताद् आदि त्वचा संबंधी समस्याओं में लाभ होता है।

बुखार के लक्षणों से आराम दिलाने में फायदेमंद नींबू जंबीरी (Nimboo Jambiri Beneficial to Get Relief from Fever in Hindi)


बुखार के ताप, जलन और दर्द जैसे लक्षणों से आराम पाना चाहते हैं तो नींबू जंबीरी का इस्तेमाल इस तरह से करने से आराम मिलता है-
-इसके शीतल मधुर रस का सेवन करने से बुखार से आराम मिलता है।
-बुखार और अन्य प्रदाहिक दर्दों में इसके रस को शर्बत के साथ पिलाने से लाभ मिलता है।

शरीर के दर्द के कष्ट से दिलाये आराम नींबू जंबीरी (Nimboo Jambiri Beneficial to Treat Body Ache in Hindi)

5-15 मिली फल के रस में 65 मिग्रा यवक्षार तथा शहद मिलाकर सेवन करने से पार्श्वशूल, गृध्रसी या साइटिका, कटिशूल या कमरदर्द तथा नितम्बसंधि की दर्द से आराम मिलती है।

नींबू जंबीरी का उपयोगी भाग (Useful Parts of Nimbu Jambiri)

आयुर्वेद के अनुसार नींबू जंबीरी का औषधीय गुण इसके इन भागों को प्रयोग करने पर सबसे ज्यादा मिलता है-
-फल का रस
-छिलका
-पत्ता और 
-तेल।

नींबू जंबीरी का इस्तेमाल कैसे करना चाहिए (How to Use Nimbu Jambiri in Hindi)

यदि आप किसी ख़ास बीमारी के घरेलू इलाज के लिए नींबू जंबीरी का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो बेहतर होगा कि किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह के अनुसार ही इसका उपयोग करें। 

नींबू जंबीरी कहां पाया या उगाया जाता है (Where is Nimbu Jambiri Found or Grown in Hindi)

 भारत में यह हिमालय पर 1200 मी की ऊंचाई तक तथा उत्तर भारत, कर्नाटक, तमिलनाडू, गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली, आसाम एवं पंजाब में पाया जाता है।


No comments