अरबी के फायदे और नुकसान (Benefits of Arbi in Hindi)

अरबी को कई लोग अरवी भी कहते हैं। यह एक सब्जी है, जिसे आप सभी खाते होंगे। यह आसानी से बाजार में मिल जाती है। इसका स्वाद अन्य सब्जियों से थोड़ा अलग होता है। सामान्यतः अरबी से दो तरह के पकवान बनाए जाते हैं, सूखी सब्जी (भुजिया), और रसदार सब्जी। कुछ लोग अरबी के पत्तों (arbi ke patte) से भी कई तरह के व्यंजन बनाते हैं। लोगों को अरबी के बारे में यह जानकारी है नहीं है कि अरबी के सेवन से शरीर को अनेक फायदे (arbi ke fayde) होते हैं। क्या आप जानते हैं कि अरबी का प्रयोग कर आप कई रोगों का इलाज भी कर सकते हैं।

rbi ki sabji ke fayde

आयुर्वेद में अरबी को बहुत ही गुणकारी आहार बताया गया है। आइए जानते हैं कि जिस अरवी को आप केवल सब्जी (arbi ki sabji) के रूप में उपयोग में लाते हैं, उसे औषधि के रूप में किस तरह उपयोग में लाया जाता है।

अरबी क्या है(What is Arbi in Hindi?)

अरबी की खेती कन्द, और पत्तों के लिए होती है। यह वातकारक है, इसलिए अरबी से बने व्यंजनों में वात के शमन के लिए अजवायन को डाला जाता है। यह वातकारक होते हुए भी हृदय रोगों में फायदेमंद होता है। इसके सेवन से शरीर को पौष्टिक तत्व मिलता है। अरबी को तेल में पकाकर खाने से इसका स्वाद बहुत ही उत्तम हो जाता है।

अन्य भाषाओं में अरबी के नाम (Name of Arbi in Different Languages)

अरबी का वानस्पतिक नाम (Scientific Name of Arbi or Colocasia) कोलोकेसिया एस्कुलेन्टा (Colocasia esculenta (L.), Schott, Syn-Colocasia antiquorum Schott) है, और यह ऐरेसी (Aracea) कुल का है। दुनिया भर में अरवी को कई नामों से बुलाया जाता है, जो ये हैंः-
Arbi in –
  • Name of Arbi in Hindi – अरुई, घुइयां, कच्चु, अरवी, घूय्या
  • Name of Arbi in English (arbi in english) – इजिप्टियन ऐरम (Egyptian arum), क्रैच कोको (Scratch Coco), टैरो रूट (Taro root), एड्डोस (Eddoes), एलिफैन्टस् इयर (Elephant’s ear) कोको यैम (Coco yam), टैरो (Taro)
  • Name of Arbi in Sanskrit – कच्चू, आलुकी
  • Name of Arbi in Oriya – सारु (Saru)
  • Name of Arbi in Konkani – ऐल्लम (Allum)
  • Name of Arbi in Kannada – केसवे (Kesave)
  • Name of Arbi in Gujarati – अलवी (Alvi)
  • Name of Arbi in Tamil – शिमेंथम (Shementhum), शमाकीलंगू (Shamakkilangu), सेपनकीझंगु (Sepankizhangu)
  • Name of Arbi in Telugu – चम्मडुम्पा (Chamadumpa)
  • Name of Arbi in Bengali – काचू (Kachu), अशुकुचू (Ashukuchu)
  • Name of Arbi in Nepali – कर्कलो (Karkalo); पंजाबी-अलू (Alu), गाग्ली (Gagli), अट्टवाचा कान्दा (Atthavacha kanda), अलू (Alu)
  • Name of Arbi in Malayalam – चेम्पकीझन्ना (Chempakizhanna)
  • Name of Arbi in Arabic – कल्कस (Kalkas), गुल्गस (Gullgas)

अरबी के फायदे (Arbi Benefits and Uses in Hindi)

अब तक आपने जाना कि विश्व में अरबी को किस-किस नाम से बुलाया जाता है। आइए अब जानते हैं कि अरवी का औषधीय प्रयोग कैसे किया जा सकता है, और औषधीय प्रयोग के समय अरवी की मात्रा, या विधियां क्या होनी चाहिएः-

बालों के झड़ने की समस्या में अरबी के फायदे (Uses of Arbi in Hair Fall in Hindi)

बालों का झड़ना एक आम परेशानी है, जिससे कई लोग परेशान रहते हैं। महिला हो या पुरुष, सभी बालों को झड़ने से रोकने के लिए अलग-अलग तरह के उपाय करते हैं, लेकिन कई बार उपाय से पूरी तरह फायदा नहीं मिलता है। आयुर्वेद के अनुसार, अरबी के गुण से बालों का झड़ना रुक सकता है। अगर आपके बाल गिर रहे हों तो अरवी के कंद का रस निकालकर सिर पर मालिश करें। इससे बालों का गिरना बंद (arbi vegetable benefits) हो जाता है। [Go to: Benefits of Arbi]
और पढ़ें : बालों का झड़ना रोकने के घरेलू उपाय

अरबी के औषधीय गुण से सिर दर्द से राहत (Arbi Uses in Relief from Headache in Hindi)

कई लोगों को बराबर सिर दर्द की शिकायत रहती है। आप अरबी के गुण से सिर दर्द से आराम पा सकते हैं। अरबी कन्द के रस में छाछ, या दही मिला लें। इसे पीने से सिर दर्द से आराम मिलता है। [Go to: Benefits of Arbi]

अरबी के फायदे कान के रोग में (Uses of Arbi in Ear Disease in Hindi)

कान बहने या कान के दर्द में भी अरवी का उपयोग कर सकते हैं। इन रोगों में अरबी के पत्ते (arbi ke patte) के 1-2 बूंद रस को कान में डालें। इससे ना सिर्फ कान बहना रुक जाता है, बल्कि कान का दर्द भी ठीक हो जाता है। [Go to: Benefits of Arbi]
और पढ़ें: अजवाइन फायदे कान के रोग में

अरबी के फायदे आंखों के रोग में (Uses of Arbi in Eye Disease in Hindi)

आंखों के विभिन्न रोगों में अरबी का प्रयोग लाभ पहुंचाता है। आप अरबी के पत्तों और कन्द की सब्जी बनाकर सेवन करें। इससे आंखों के रोग में फायदा होता है। [Go to: Benefits of Arbi]

सूजन की समस्या में अरबी से लाभ (Arbi Vegetable Benefits in Reducing Inflammation in Hindi)

अरबी के गुण से सूजन की समस्या ठीक की जा सकती है। अरबी के पत्ते (arbi ke patte), और इसकी डंडियों का रस निकाल लें। इसमें नमक मिला लें। इसका लेप करने से गांठों, और मांसपेशियों की सूजन ठीक हो जाती है। [Go to: Benefits of Arbi]

नींद न आने की परेशानी में अरवी का सेवन (Arbi Vegetable Benefits for Insomnia in Hindi)

नींद न आने की परेशानी में अरबी के पत्तों, तथा कन्द का साग बनाकर सेवन करें। इससे अनिद्रा की परेशानी ठीक (arbi ke fayde) हो जाती है। [Go to: Benefits of Arbi]

अरबी के सेवन से कब्ज की परेशानी में लाभ (Arbi Uses in Fighting with Constipation in Hindi)

कब्ज एक ऐसी बीमारी है, जिससे कई लोग परेशान रहते हैं। पेट की इस बीमारी के कारण लोगों का खान-पान बहुत बदल जाता है। अरबी के गुण इस रोग में भी काम आते हैं। अरबी के कंद का काढ़ा बनाकर पिएं। इससे कब्ज की परेशानी ठीक होती है। [Go to: Benefits of Arbi]
और पढ़ें  पेट के रोग में लौंग के फायदे
और पढ़े: कब्ज में नागफनी के फायदे

शारीरिक कमजोरी को दूर करने के लिए अरवी का उपयोग (Arbi Uses to Treat Body Weakness in Hindi)

शारीरिक कमजोरी वाले लोग भी अरबी का सेवन कर सकते हैं। अरबी के छोटे कन्दों को भूनकर भर्ता बना लें। इसका सेवन करने से शरीर स्वस्थ होता है, तथा कमजोरी दूर होती है। [Go to: Benefits of Arbi]
और पढ़े: कमजोरी को दूर करने में ज्वार के फायदे

भूख बढ़ाने के लिए अरबी का उपयोग (Arbi Uses in Increasing Appetite in Hindi)

भूख कम लगती है, तो अरबी का प्रयोग कर फायदा ले सकते हैं। अरबी के पत्तों का जूस बना लें। इसमें दालचीनी, इलायची तथा अदरक डालकर पिएं। इससे भूख ना लगने की समस्या ठीक होती है। [Go to: Benefits of Arbi
और पढ़ें: भूख बढ़ाने में कटहल के फायदे

हाई ब्लडप्रेशर (उच्च रक्तचाप) में अरबी से लाभ (Benefits of Arbi to Manage High Blood Pressure in Hindi)

उच्च रक्तचाप आज आम समस्या बन चुकी है। इसके कारण कई रोग होने की संभावना भी बढ़ जाती है। आप हाई ब्लडप्रेशर को अरबी के इस्तेमाल से ठीक कर सकते हैं। अरबी की सब्जी का सेवन करें। इससे उच्च रक्तचाप में लाभ (arbi vegetable benefits) होता है। [Go to: Benefits of Arbi]

दस्त रोकने के लिए अरबी का गुण लाभदायक (Benefits of Arbi to Stop Diarrhea in Hindi)

दस्त से परेशान रहने वाले लोग अरबी का प्रयोग करें। अरबी के पत्ते का काढ़ा बनाकर 10-15 मिली मात्रा में सेवन करें। इससे दस्त पर रोक लगती है। [Go to: Benefits of Arbi]
Arbi benefits in Diarrhea
और पढ़ें: दस्त रोकने में फायदेमंद गोखरू

अरवी का औषधीय गुण दांतों  के दर्द में फायदेमंद (Arbi Vegetable Benefits in Dental Pain in Hindi)

अनेक लोग दांतों के दर्द से परेशान रहते हैं। आपके भी दांतों में दर्द हो रहा है, तो अरवी का सेवन फायदा देगा। दांतों से जुड़ी बीमारियों पर बेहतर परिणाम पाने के लिए किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से जरूर परामर्श लें।
और पढ़े: दांतों के रोगों में बरगद के फायदे

घाव सुखाने के लिए अरबी का इस्तेमाल (Benefits of Arbi in Wound Healing in Hindi)

किसी व्यक्ति का घाव ठीक नहीं हो रहा है तो अरबी का इस्तेमाल करना लाभ (benefits of arvi) पहुंचाता है। अरबी के कोमल पत्तों के रस को निकालकर घाव पर लगाएं। इससे घाव से खून बहना रुक जाता है, और घाव भर जाता है। [Go to: Benefits of Arbi]
और पढ़ें: घाव सुखाने के लिए मटर के फायदे

कैंसर के इलाज में अरबी फायदेमंद (Benefits of Arbi for Cancer in Hindi)

अरबी का सेवन आपको कैंसर के खतरे से बचने में सहयोगी होता है क्योंकि एक रिसर्च के अनुसार अरबी में कैंसर के विपरीत कार्य करने की क्षमता होती है जो कि  

मधुमेह को नियंत्रित करने में अरबी के फायदे (Arbi Vegetable Beneficial to Control Diabetes in Hindi)

अरबी के सेवन से मधुमेह में भी लाभ मिलता है, क्योंकि इसमें पाए जाने वाले टैनिन नामक तत्त्व की मदद से भोजन एवं अत्यधिक मात्रा में खाये गए फैट, कार्बोहाइड्रेड और ग्लूकोज़ का पाक होता है, जिससे यह डायबिटीज को नियंत्रित  करने में मदद करती है साथ हि इसमें प्रमेहघ्न यानी यही मधुमेह को नियंत्रित करने वाला गुण भी होता है जो की शर्करा की मात्रा रक्त में सामान्य बनाये रखने में मदद करता है।  

और पढ़ें – डायबिटीज में निर्मली के फायदे

त्वचा के लिए अरबी के फायदे (Arbi Benefical for Healthy Skin in Hindi)

अरबी के सेवन से कील-मुंहासे जैसे कुछ त्वचा संबंधी रोगों में भी लाभ मिलता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है जो त्वचा को किसी भी प्रकार के सूजन से बचाकर रखता है।इसमें मौजूद शीतल गुण त्वचा को हर प्रकार के संक्रमण यानि इन्फेक्शन या इन्फ्लमेशन में ठंडक प्रदान करती है और त्वचा को स्वस्थ बनाये रखती है।     
और पढ़ें – त्वचा रोग में लोहबान के फायदे  

वजन कम करने में अरबी के फायदे (Arbi Beneficial in Weight loss in Hindi)

अरबी में फाइबर की मात्रा अधिक होने के कारण यह पाचन में मदद करता है। जिससे शरीर में फैट जमा होने की संभावनाए ना के बराबर हो जाती है। इससे ये वजन को नियंत्रित रखने में भी मदद करती है। इसमें गुरु गुण होने के कारण यह देर से पचती है और इसी वजह से अधिक भूख नहीं लगती जिससे वजन को नियंत्रित रखने में आसानी होती है।     

अरबी के सेवन से प्रतिरक्षी तंत्र का काम होता है बेहतर (Benefit of Arbi to Boost Immunity in Hindi) 

अरबी प्रतिरक्षी तंत्र (इम्यून सिस्टम) के काम को बेहतर तरीके से करने में मदद करती है। इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व शरीर के लिए एक अच्छा पाचक एवं बल प्रदान करने वाला बनाते हैं।  

खांसी दूर करने में अरबी के फायदे (Benefit of Arbi to Get Relief from Cough in Hindi)

अरबी में ग्लाइकोसाइड्स नामक तत्त्व पाया जाता है जिसकी मदद से यह खांसी में जमा होने वाले बलगम को शरीर के बाहर निकलने में मदद करती है।
और पढ़ें – खाँसी में लाजवंती के फायदे

ह्रदय रोग में अरबी के सेवन से लाभ (Arbi Benefits for Heart Related Disorder in Hindi)

भूख कम लगती है तो अरबी के इस्तेमाल से फायदा ले सकते हैं। अरबी के पत्तों के डंठल से जूस बना लें। इसमें दालचीनी, इलायची, तथा अदरक डालकर पिएं। इससे ह्रदय विकार ठीक (arbi ke fayde) होते हैं। [Go to: Benefits of Arbi]
और पढ़ें  बच्चों की खांसी का घरेलू इलाज अदरक से

ततैया या भिरड़ के काटने पर अरबी से लाभ (Benefits of Arbi in Insect Bite in Hindi)

ततैया या भिरड़ के काटे वाले स्थान पर अरबी के पत्ते के रस को लगाएं। इससे दर्द ठीक हो जाता है। [Go to: Benefits of Arbi]

जहरीले जानवरों के काटने पर अरबी से फायदा (Benefits of Arbi in Animal Bite in Hindi)

आप अरबी का उपयोग जहलीले जानवरों के काटने पर भी कर सकते हैं। जिस स्थान पर जहरीले जानवरों ने काटा या डंक मारा है, वहां अरवी की डंडियों का रस लगाएं। इससे लाभ (arbi benefits) होता है। [Go to: Benefits of Arbi]

अरबी के उपयोगी भाग (Useful Parts of Arbi)

अरबी का सेवन इस तरह से किया जा सकता हैः-
  • घनकंद
  • पत्ते

अरबी का इस्तेमाल कैसे करें? (How to Use Arbi in Hindi?)

एक औषधि के रूप में अरवी का सेवन इस तरह किया जा सकता हैः-
  • अरबी के कंद का रस की मात्रा- 5 मिली
  • अरबी का काढ़ा- 10-15 मिली
  • अरबी के पत्ते का रस – 1-2 बूंद (बाहरी प्रयोग के लिए)
अगर आप अरवी को औषधि के रूप में प्रयोग में लाना चाहते हैं, तो यह ध्यान रखना है कि अरबी का इस्तेमाल चिकित्सक की परामर्श लेकर करें।

अरबी से नुकसान (Side Effects of Arbi in Hindi)

अरबी का इस्तेमाल करते समय विशेष रूप से इस बात का ध्यान रखना जरूरी हैः-
अरबी के पत्ते, और कंद में कैल्शियम ऑक्जलेट होता है, जिसके सेवन से गले, तथा मुंह में सुई चुभने जैसी खुजली हो सकती है। इसलिए अरवी का सेवन पानी में उबालकर करें। इसे विधिपूर्वक बनाएं, तथा इसकी मात्रा सही होनी चाहिए। इससे आप अरबी के नुकसान से बच सकते हैं।
और पढ़े – गले के रोग में कम्पिल्लक के फायदे

अरवी कहां पाया या उगाया जाता है? (Where is Arbi Found or Grown?)

अरबी  की खेती देश भर में की जाती है। देश के लगभग सभी गर्म प्रदेशों, एवं हिमालय के आर्द्र, तथा सूखे भागों में अरबी की खेती की जाती है। अरवी 2500 मीटर की ऊंचाई तक नदियों व तालाबों के किनारे भी पाई जाती है।

अक्सर पुछे जाने वाले सवाल

1-क्या अरबी के सेवन से कोई नुकसान होता है?

अरबी से वैसे तो कोई नुक्सान नहीं होता है परन्तु यदि अधिक मात्रा में इसका सेवन कर लिए जाए तो यह बदहजमी या गैस का कारण बन सकती है, क्योंकि यह पचने में भारी होती है।    
और पढ़ें : गैस दूर करने के घरेलू उपाय

2- अरबी सेहत के लिए कितना फायदेमंद है?

अरबी में फाइबर, कैल्शियम, विटामिन्स,स्टार्च आदि पोषक तत्त्व पाए जाते है। इसमें प्रोटिन्स की मात्रा इतनी अधिक नहीं होती है। कहने का मतलब यह है कि यदि सामान्य मात्रा में खाया जाए तो यह सुपाच्य होती है।  
और पढ़े –
  • डायबिटीज में अगरु के फायदे
  • अनिद्रा की परेशानी में ब्राह्मी वटी लाभदायक

Post a Comment

Previous Post Next Post