अर्शोघ्नी वटी के फायदे, खुराक और उपयोग : Arshoghni Vati Benefits, Doses and Uses

अर्शोघ्नी वटी का परिचय (Introduction of Arshoghni Vati)

क्या आपको पता है कि अर्शोघ्नी वटी (arshoghni vati ke fayde) क्या है? यह एक औषधि है जिसका प्रयोग अनेक रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है। आयुर्वेद में अर्शोघ्नी वटी के बारे में कई सारी अच्छी बातें बताई गई हैं। आप अर्शोघ्नी वटी का इस्तेमाल कर कई रोगों में लाभ पा सकते हैं।
सदियों से आयुर्वेदाचार्य अर्शोघ्नी वटी का प्रयोग कर लोगों को स्वस्थ करने का काम कर रहे हैं। आइए जानते हैं कि आप अर्शोघ्नी वटी का उपयोग किन-किन बीमारियों में किया जा सकता है।

अर्शोघ्नी वटी क्या है? (What is Arshoghni Vati?)

अर्शोघ्नी वटी आयुर्वेद की एक औषधि है जो सामान्यतः बवासीर के इलाज (arshoghni vati ke fayde) के लिए उपयोग में लाई जाती है।

अर्शोघ्नी वटी के फायदे (Arshoghni Vati Benefits and Uses)

आयुर्वेद में इस वटी के कई फायदे बताये गए हैं जिनमें से प्रमुख फायदों के बारे में हम यहां विस्तार से बता रहे हैं : 

बवासीर की बीमारी में अर्शोघ्नी वटी का प्रयोग लाभदायक (Arshoghni Vati Benefits for Piles in Hindi)

बवासीर एक ऐसी बीमारी है जिससे रोगी को बहुत परेशानी होती है। बवासीर दो तरह की होती है। बादी बवासीर और खूनी बवासीर। अर्शोघ्नी वटी का प्रयोग दोनों बवासीर में फाय़देमंद (arshoghni vati benefits) होता है। बवासीर के उपचार के लिए यह सबसे उपयोगी दवाओं में से एक है।
खूनी बवासीर में गिरने वाला रक्त इस वटी के प्रयोग से तुरंत बन्द हो जाता है। यह वटी बवासीर को जड़ से खत्म करने में सक्षम है। बवासीर की बीमारी में अर्शोघ्नी वटी का नियमित प्रयोग करना चाहिए।
बादी बवासीर में होने वाले कठोर मस्से भी अर्शोघ्नी वटी के प्रयोग से सूख जाते हैं। यह वटी रक्तरोधक, दस्तावर  वायुनाशक (arshoghni vati benefits) है।
और पढ़ें : बवासीर का घरेलू इलाज 

पेट को साफ करती है अर्शोघ्नी वटी (Arshoghni Vati Uses for Constipation in Hindi)

कई लोग कब्ज की समस्या से परेशान रहते हैं और पेट को साफ करने के लिए अनेक उपाय आजमाते हैं। ऐसे में आप अर्शोघ्नी वटी का उपयोग (arshoghni vati benefits) कर सकते हैं। इसके सेवन से पेट साफ हो जाता है।
Arshoghni-vati-for Constipation
और पढ़ें : कब्ज़ से छुटकारा दिलाते हैं ये घरेलू उपचार 

अर्शोघ्नी वटी की खुराक (Doses of Arshoghni Vati)

अर्शोघ्नी वटी का प्रयोग इतनी मात्रा में करना चाहिएः-
125-500 मि.ली. ग्राम
अनुपान – जले के साथ
आप अधिक लाभ के लिए अर्शोघ्नी वटी का प्रयोग (arshoghni vati uses) चिकित्सक के परामर्श के अनुसार करें।

अर्शोघ्नी वटी बनाने के लिए उपयोगी घटक (Composition of Arshoghni Vati)

आप इन घटकों से अर्शोघ्नी वटी बना सकते हैंः-
क्र.सं.
घटक द्रव्य
उपयोगी हिस्सा
अनुपात
1
निम्बफल (Azadirachta indica A. Juss.)
बीज
24 ग्राम
2
महानिम्ब (Azadirachta indica A. Juss.)
बीज
24 ग्राम
3
खूनखराबा (Daemenorops draco Blume.)
निर्यास
24 ग्राम
4
तृणकान्तमणि पिष्टी (कहरवा)
 
48 ग्राम
5
शुद्ध रसौंत (Berberis aristata DC)
Solid Ext.
3 ग्राम

Post a Comment

Previous Post Next Post