Halaman

    Social Items

क्या आपको पता है कि अजमोदादि चूर्ण (ajmoda in hindi) क्या है? यह एक औषधि है जिसका प्रयोग अनेक रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है। आयुर्वेद में यह बताया गया है कि अजमोदादि चूर्ण को सबसे अच्छा पाचक माना गया है। अजमोदादि चूर्ण भूख को बढ़ाता है, पाचनतंत्र को ठीक करता है और पेट की गैस की समस्या से आराम (ajmodadi churna benefits) दिलाता है।
सदियों से आयुर्वेदाचार्य अजमोदादि चूर्ण के इस्तेमाल से रोगों का इलाज करने का काम कर रहे हैं। आप भी अजमोदादि चूर्ण के फायदे ले सकते हैं। आइए जानते हैं कि किन-किन बीमारियों (ajmodadi uses) अजमोदादि चूर्ण से लाभ होता है।

अजमोदादि चूर्ण क्या है? (What is Ajmodadi Churna in Hindi?)

अजमोदादि चूर्ण एक आयुर्वेदिक औषधि है। दर्दों से मुक्ति के लिए यह पतंजलि द्वारा दी जाने वाली यह एक प्रमुख औषधि (Patanjali Medicine For Pain) है। इसे विभिन्न पादपों के जड़, तने, फूल, पत्तों आदि के मिश्रण से तैयार किया जाता है। अजमोदादि चूर्ण सभी प्रकार के दर्द ख़त्म करता है तथा वायु को शान्त करता है। यह कफ दोष को भी नष्ट करता है। यहां अजमोदादि चूर्ण से होने वाले सभी फायदेको बहुत ही आसान भाषा (ajmodadi churna benefits in hindi) में लिखा गया है ताकि आप इससे पूरा लाभ ले पाएं।

अजमोदादि चूर्ण के फायदे (Ajmodadi Churna Benefits and Uses in Hindi)

आप अजमोदादि चूर्ण का प्रयोग कई रोगों को ठीक करने के लिए कर सकते हैं, जो ये हैंः-

जोड़ों के दर्द में अजमोदादि चूर्ण के फायदे (Ajmodadi Churna Benefits to Get Relief from Rheumatoid Arthritis in Hindi)

जोड़ों का दर्द एक ऐसी बीमारी है जिससे हजारों लोग पीड़ित हैं। इस बीमारी के कारण लोगों को जोड़ों में बहुत तकलीफ झेलनी पड़ती है। जोड़ों के दर्द से राहत पाने (pain nivaran churna) के लिए आप अजमोदादि चूर्ण का उपयोग कर सकते हैं। यह आपको जोड़ों के दर्द से राहत पहुंचाता है।

जोड़ों की सूजन में अजमोदादि चूर्ण के फायदे (Benefits of Ajmodadi Churna in Reduce Swelling in Hindi)

शरीर के किसी अंग में सूजन हो गई हो तो अजमोदादि चूर्ण से लाभ (Ajmodadi Churna Benefits) मिलता है। इसके लिए आप किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से यह सलाह जरूर लें कि सूजन के लिए अजमोदादि चूर्ण का कैसे इस्तेमाल करना है।

सायटिका में अजमोदादि चूर्ण के फायदे (Ajmodadi Churna Benefits for Sciatica in Hindi)

अजमोदादि चूर्ण दर्द के लिए रामबाण औषधि (pain nivaran churna) है। आप सायटिका में भी अजमोदादि चूर्ण का प्रयोग कर सकते हैं। इससे फायदा होता है।

पाचनतंत्र विकार में अजमोदादि चूर्ण के सेवन से लाभ (Benefits of Ajmodadi Churna for Indigestion in Hindi)

आज खान-पान के असंतुलन और फास्ट फूड के सेवन के कारण पाचनतंत्र विकार एक आम समस्या हो गयी है। हजारों लोग पाचनतंत्र की समस्या से ग्रस्त हैं, और बीमारी से छुटकारा पाने (Ajmodadi Churna Benefits) के लिए अनेक उपाय करते हैं। आप अजमोदादि चूर्ण का इस्तेमाल करेंगे तो पाचनतंत्र की बीमारी में फायदा मिलेगा।

पेट की गैस की समस्या में अजमोदादि चूर्ण के सेवन से लाभ (Ajmodadi Churna Uses for Acidity in Hindi)

यह पाचनतंत्र में सुधार लाता है। यह पेट की गैस की समस्या को ठीक करता है। इस परेशानी के लिए अजमोदादि चूर्ण का सेवन करने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से जरूर परामर्श लें।
और पढ़ें : गैस दूर करने के घरेलू उपाय

कफ दोष में अजमोदादि चूर्ण के सेवन से लाभ (Ajmodadi Churna Uses for Kapha Disorder in Hindi)

कफ दोष के कारण शरीर में कई तरह की परेशानियां होने लगती हैं। आप कफ दोष को ठीक (Ajmodadi Churna Benefits) करने के लिए भी अजमोदादि चूर्ण का सेवन कर सकते हैं।

किन्हें अजमोदादि चूर्ण का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए? (Who Should not Use Ajmodadi Churna?) 

अजमोदादि चूर्ण का सेवन इन लोगों को नहीं करना चाहिएः-
अगर रोगी पहले से ही बढ़े हुए पित्त यानी एसिडिटी से पीड़ित हो तो उसे अजमोदादि चूर्ण का उपयोग नहीं करना चाहिए। इससे ये नुकसान हो सकता हैः-
  • सीने में जलन
  • पेट में जलन
  • एसिडिटी
  • सिर में चक्कर आना

अजमोदादि चूर्ण से नुकसान (Ajmodadi Churna Side Effects)

अजमोदादि चूर्ण के सेवन से ये नुकसान भी हो सकते हैंः-
  • गर्भावस्था के दौरान अजमोदादि चूर्ण का उपयोग नहीं करना चाहिए। अजमोदादि चूर्ण की तासीर गर्म होती है। इसके कारण रक्तस्राव हो सकता है।
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी चिकित्सक से परामर्श के बाद ही अजमोदादि चूर्ण का सेवन करना चाहिए।

अजमोदादि चूर्ण का उपयोग कैसे करें? (How to Use Ajmodadi Churna in Hindi)

अजमोदादि चूर्ण (ajamodadi churna) का इस्तेमाल इतनी मात्रा में करना चाहिएः-
3 से 6 ग्राम
अनुपान- हल्का गर्म पानी व गुड़ के साथ।

अजमोदादि चूर्ण कहां से खरीदें? (Where to Buy Ajmodadi Churna?)

पतंजलि के अजमोदादि चूर्ण (Patanjali Divya Ajmodadi Churna) खरीदने के लिए यहां क्लिक करें।

आयुर्वेद में अजमोदादि चूर्ण के बारे में उल्लेख (Ajmodadi Churna in Ayurveda)

अजमोदादि चूर्ण के बारे में आयुर्वेदिक ग्रंथों में कहा गया है –
अजमोदादि चूर्ण
अजमोदा विडंगानि सैंन्धवं देवदारु च।। 
चित्रक पिप्पलीमूलं शतपुष्पा च पिप्पली।
मरिचं चेति कर्षांशं प्रत्येकं कारयेद्बुध।।
कर्षास्तु पञ्च पथ्याया दश स्युर्वृद्धदारुकात्।। शारंगधर संहिता (म.ख. 6/113-115)

अजमोदादि चूर्ण बनाने के लिए उपयोगी घटक (Composition of Ajmodadi Churna)

अजमोदादि चूर्ण (ajamodadi churna) बनाने के लिए इन द्रव्यों का उपयोग किया गया हैः-
क्र.सं.
घटक द्रव्य
उपयोगी हिस्सा
अनुपात
1.
अजमोदा (CarumRoxburghianum (DC) Craib.)
फल
12 ग्राम
2.
विडंग (Embeliaribes Burm. f.)
फल
12 ग्राम
3.
सैंधवलवण (Rock Salt)
 
12 ग्राम
4.
देवदारु (Cedrusdeodara (Roxb.) Loud.)
सार
12 ग्राम
5.
चित्रक (Plumbagozeylanica Linn.)
जड़
12 ग्राम
6.
पीपल की जड़ (Piperlongum Linn.)
जड़
12 ग्राम
7.
शतपुष्पा (Anethumsowa Kurz.)
फूल
12 ग्राम
8.
पीपल (Piperlongum Linn.)
फल
12 ग्राम
9.
मरिच (Pipernigrum Linn.)
फल
12 ग्राम
10.
पथ्या (हरीतकी)(Terminaliachebula Retz.)
फल
12 ग्राम
11.
वृद्धदारुक (Argyreiaspeciosa Sweet.)
पत्ते
12 ग्राम
12.
नागर (शुण्ठी) (Zingiberofficinale rosc.)
कन्द
12 ग्राम

Ajmodadi Churna : कई रोगों की रामबाण दवा है अजमोदादि चूर्ण – Acharya Balkrishan Ji (Patanjali)

क्या आपको पता है कि अजमोदादि चूर्ण (ajmoda in hindi) क्या है? यह एक औषधि है जिसका प्रयोग अनेक रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है। आयुर्वेद में यह बताया गया है कि अजमोदादि चूर्ण को सबसे अच्छा पाचक माना गया है। अजमोदादि चूर्ण भूख को बढ़ाता है, पाचनतंत्र को ठीक करता है और पेट की गैस की समस्या से आराम (ajmodadi churna benefits) दिलाता है।
सदियों से आयुर्वेदाचार्य अजमोदादि चूर्ण के इस्तेमाल से रोगों का इलाज करने का काम कर रहे हैं। आप भी अजमोदादि चूर्ण के फायदे ले सकते हैं। आइए जानते हैं कि किन-किन बीमारियों (ajmodadi uses) अजमोदादि चूर्ण से लाभ होता है।

अजमोदादि चूर्ण क्या है? (What is Ajmodadi Churna in Hindi?)

अजमोदादि चूर्ण एक आयुर्वेदिक औषधि है। दर्दों से मुक्ति के लिए यह पतंजलि द्वारा दी जाने वाली यह एक प्रमुख औषधि (Patanjali Medicine For Pain) है। इसे विभिन्न पादपों के जड़, तने, फूल, पत्तों आदि के मिश्रण से तैयार किया जाता है। अजमोदादि चूर्ण सभी प्रकार के दर्द ख़त्म करता है तथा वायु को शान्त करता है। यह कफ दोष को भी नष्ट करता है। यहां अजमोदादि चूर्ण से होने वाले सभी फायदेको बहुत ही आसान भाषा (ajmodadi churna benefits in hindi) में लिखा गया है ताकि आप इससे पूरा लाभ ले पाएं।

अजमोदादि चूर्ण के फायदे (Ajmodadi Churna Benefits and Uses in Hindi)

आप अजमोदादि चूर्ण का प्रयोग कई रोगों को ठीक करने के लिए कर सकते हैं, जो ये हैंः-

जोड़ों के दर्द में अजमोदादि चूर्ण के फायदे (Ajmodadi Churna Benefits to Get Relief from Rheumatoid Arthritis in Hindi)

जोड़ों का दर्द एक ऐसी बीमारी है जिससे हजारों लोग पीड़ित हैं। इस बीमारी के कारण लोगों को जोड़ों में बहुत तकलीफ झेलनी पड़ती है। जोड़ों के दर्द से राहत पाने (pain nivaran churna) के लिए आप अजमोदादि चूर्ण का उपयोग कर सकते हैं। यह आपको जोड़ों के दर्द से राहत पहुंचाता है।

जोड़ों की सूजन में अजमोदादि चूर्ण के फायदे (Benefits of Ajmodadi Churna in Reduce Swelling in Hindi)

शरीर के किसी अंग में सूजन हो गई हो तो अजमोदादि चूर्ण से लाभ (Ajmodadi Churna Benefits) मिलता है। इसके लिए आप किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से यह सलाह जरूर लें कि सूजन के लिए अजमोदादि चूर्ण का कैसे इस्तेमाल करना है।

सायटिका में अजमोदादि चूर्ण के फायदे (Ajmodadi Churna Benefits for Sciatica in Hindi)

अजमोदादि चूर्ण दर्द के लिए रामबाण औषधि (pain nivaran churna) है। आप सायटिका में भी अजमोदादि चूर्ण का प्रयोग कर सकते हैं। इससे फायदा होता है।

पाचनतंत्र विकार में अजमोदादि चूर्ण के सेवन से लाभ (Benefits of Ajmodadi Churna for Indigestion in Hindi)

आज खान-पान के असंतुलन और फास्ट फूड के सेवन के कारण पाचनतंत्र विकार एक आम समस्या हो गयी है। हजारों लोग पाचनतंत्र की समस्या से ग्रस्त हैं, और बीमारी से छुटकारा पाने (Ajmodadi Churna Benefits) के लिए अनेक उपाय करते हैं। आप अजमोदादि चूर्ण का इस्तेमाल करेंगे तो पाचनतंत्र की बीमारी में फायदा मिलेगा।

पेट की गैस की समस्या में अजमोदादि चूर्ण के सेवन से लाभ (Ajmodadi Churna Uses for Acidity in Hindi)

यह पाचनतंत्र में सुधार लाता है। यह पेट की गैस की समस्या को ठीक करता है। इस परेशानी के लिए अजमोदादि चूर्ण का सेवन करने से पहले किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से जरूर परामर्श लें।
और पढ़ें : गैस दूर करने के घरेलू उपाय

कफ दोष में अजमोदादि चूर्ण के सेवन से लाभ (Ajmodadi Churna Uses for Kapha Disorder in Hindi)

कफ दोष के कारण शरीर में कई तरह की परेशानियां होने लगती हैं। आप कफ दोष को ठीक (Ajmodadi Churna Benefits) करने के लिए भी अजमोदादि चूर्ण का सेवन कर सकते हैं।

किन्हें अजमोदादि चूर्ण का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए? (Who Should not Use Ajmodadi Churna?) 

अजमोदादि चूर्ण का सेवन इन लोगों को नहीं करना चाहिएः-
अगर रोगी पहले से ही बढ़े हुए पित्त यानी एसिडिटी से पीड़ित हो तो उसे अजमोदादि चूर्ण का उपयोग नहीं करना चाहिए। इससे ये नुकसान हो सकता हैः-
  • सीने में जलन
  • पेट में जलन
  • एसिडिटी
  • सिर में चक्कर आना

अजमोदादि चूर्ण से नुकसान (Ajmodadi Churna Side Effects)

अजमोदादि चूर्ण के सेवन से ये नुकसान भी हो सकते हैंः-
  • गर्भावस्था के दौरान अजमोदादि चूर्ण का उपयोग नहीं करना चाहिए। अजमोदादि चूर्ण की तासीर गर्म होती है। इसके कारण रक्तस्राव हो सकता है।
  • स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी चिकित्सक से परामर्श के बाद ही अजमोदादि चूर्ण का सेवन करना चाहिए।

अजमोदादि चूर्ण का उपयोग कैसे करें? (How to Use Ajmodadi Churna in Hindi)

अजमोदादि चूर्ण (ajamodadi churna) का इस्तेमाल इतनी मात्रा में करना चाहिएः-
3 से 6 ग्राम
अनुपान- हल्का गर्म पानी व गुड़ के साथ।

अजमोदादि चूर्ण कहां से खरीदें? (Where to Buy Ajmodadi Churna?)

पतंजलि के अजमोदादि चूर्ण (Patanjali Divya Ajmodadi Churna) खरीदने के लिए यहां क्लिक करें।

आयुर्वेद में अजमोदादि चूर्ण के बारे में उल्लेख (Ajmodadi Churna in Ayurveda)

अजमोदादि चूर्ण के बारे में आयुर्वेदिक ग्रंथों में कहा गया है –
अजमोदादि चूर्ण
अजमोदा विडंगानि सैंन्धवं देवदारु च।। 
चित्रक पिप्पलीमूलं शतपुष्पा च पिप्पली।
मरिचं चेति कर्षांशं प्रत्येकं कारयेद्बुध।।
कर्षास्तु पञ्च पथ्याया दश स्युर्वृद्धदारुकात्।। शारंगधर संहिता (म.ख. 6/113-115)

अजमोदादि चूर्ण बनाने के लिए उपयोगी घटक (Composition of Ajmodadi Churna)

अजमोदादि चूर्ण (ajamodadi churna) बनाने के लिए इन द्रव्यों का उपयोग किया गया हैः-
क्र.सं.
घटक द्रव्य
उपयोगी हिस्सा
अनुपात
1.
अजमोदा (CarumRoxburghianum (DC) Craib.)
फल
12 ग्राम
2.
विडंग (Embeliaribes Burm. f.)
फल
12 ग्राम
3.
सैंधवलवण (Rock Salt)
 
12 ग्राम
4.
देवदारु (Cedrusdeodara (Roxb.) Loud.)
सार
12 ग्राम
5.
चित्रक (Plumbagozeylanica Linn.)
जड़
12 ग्राम
6.
पीपल की जड़ (Piperlongum Linn.)
जड़
12 ग्राम
7.
शतपुष्पा (Anethumsowa Kurz.)
फूल
12 ग्राम
8.
पीपल (Piperlongum Linn.)
फल
12 ग्राम
9.
मरिच (Pipernigrum Linn.)
फल
12 ग्राम
10.
पथ्या (हरीतकी)(Terminaliachebula Retz.)
फल
12 ग्राम
11.
वृद्धदारुक (Argyreiaspeciosa Sweet.)
पत्ते
12 ग्राम
12.
नागर (शुण्ठी) (Zingiberofficinale rosc.)
कन्द
12 ग्राम

No comments